विभाग सतर्क, फिर भी नहीं थम रहा मछलियों का अवैध शिकार

उज्जवल हिमाचल। मंडी

हिमाचल प्रदेश प्राकृतिक संपदा से संपन्न प्रदेश है। लेकिन कुछ बाहरी राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूर व कुछ स्थानीय निवासी भी यहां के नदियों, नालों में प्रतिबंध के बावजूद मछलियों का शिकार कर रहे हैं। इससे पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।इस समस्या के हल में कई पर्यावरण प्रेमी संस्थाएं अपने स्तर पर कार्य कर रहीं हैं और विभाग भी अपने स्तर पर कार्यवाही कर रहा है।

लेकिन फिर भी इस प्रकार की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। समस्या के निदान के लिए मंडी के पर्यावरण प्रेमी नरेंद्र सैनी ने सरकार के साथ.साथ आम जनता को भी पर्यावरण को बचाने में सहयोग करने की अपील की है। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले कुल्लू और मंडी के बीच औट में उनकी संस्था के सदस्यों ने एक नेपाली महिला को मछलियों का शिकार करने से रोका। सैनी का मानना है कि पर्यावरण की रक्षा के लिए आम नागरिक को भी अपना कर्तव्य समझते हुए प्रशासन और सरकार का सहयोग करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ेः रेनबो स्कूल की तनवी हिमाचल अंडर-19 क्रिकेट टीम में हुई चयनित

वहीं उन्होंने इस काम में स्थानीय लोगों का सहयोग लेने और उन्हीें को रोजगार देने का सुझाव भी दिया। उन्होंने बताया कि मंडी में मतस्य विभाग कर्मचारी कम होते हुए भी बेहतर कार्य कर रहा है। पर्यावरण प्रेमियों के अनुसार यदि समय रहते प्रदेश की प्राकृतिक संपदा को बचाने के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए तो आने वाली पीढ़ियों के लिए वन्य प्राणी और संपदा ढूंढने से भी नहीं मिलेगी। उन्होंने मांग उठाई कि आने वाले समय में सरकार वन्य प्राणी संरक्षण पर कोई ठोस नीति बनाए।

वहीं जब मंडी में हो रहे मछलियों के अवैध शिकार के बारे में मतस्य विभाग से जानकारी ली गई तो विभाग ने जिला में विभिन्न नालोंए खड्डों और नदी में मछलियों का अवैध रूप से शिकार करने वालों को पकड़ा और उनसे करीब 3 लाख 15 हजार रूपय से ज्यादा का जुर्माना भी वसूल किया है। साथ ही ऐसे लोगों को प्रतिबंधित समय में और अवैध रूप से चोरी छुपे मछलियों का शिकार न करने की हिदायत भी दी है।

संवाददाताः उमेश भारद्वाज।

हिमाचल प्रदेश की ताजातरीन खबरें देखने के लिए उज्जवल हिमाचल के फेसबुक पेज को फॉलो करें।