Sunday, April 11, 2021
Home Breaking News देश में लॉकडाउन की आशंका, इन 5 कामों को लेकर आम...

देश में लॉकडाउन की आशंका, इन 5 कामों को लेकर आम आदमी को फिर से सताने लगा डर

उज्जवल हिमाचल । डेस्क

देश में काेरोना की दूसरी लहर ने आतंक मचा रखा है। हर दिन मामले बढते जा रहे हैं। देश में सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में सामने आ रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में एक दिन में कोरोना के सबसे अधिक 1,03,558 मामले सामने आए हैं। अब देश में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 1,25,89,067 पर पहुंच गया है। कोविड-19 की वजह से प्रतिबंध बढ़ाए जा रहे हैं। यह भी डर पैदा हो रहा है कि जिन राज्यों में मामले बेहद ज्यादा हैं, वहां फिर से लॉकडाउन न लग जाए। हालांकि अभी तक यह सिर्फ एक आशंका है। इस आशंका के बीच आम आदमी को फिर से कुछ डर सताने लगे हैं।

 

जहां-तहां फंसने का डर

  1. सबसे बड़ा डर तो इस बात का है कि अगर फिर से लॉकडाउन लगा और आवागमन बंद हुआ तो एक बार फिर लोग जहां तहां फंस जाएंगे। जो लोग रोजी रोटी की तलाश में दूसरे शहरों में जाकर गुजर बसर करते हैं और उनका कोई स्थायी निवास नहीं है, उनके लिए सबसे ज्यादा मुश्किल होती है। जैसे कि प्रवासी श्रमिक। पिछली बार लॉकडाउन में दूसरे शहरों में फंसे प्रवासी श्रमिक खाने-पीने और रहने का संकट खड़ा होने के बाद पैदल ही घर की ओर रवाना हो गए थे। उनमें से कइयों की बीच में ही जान भी चली गई थी।

​छोटे उद्योग धंधों के बंद होने का डर

लॉकडाउन के दौरान उद्योग धंधों को काफी नुकसान झेलना पड़ा था। छोटे उद्योग धंधे तो चौपट ही हो गए। रेहड़ी-पटरी लगाने वालों, चाय की दुकान या दूसरी तरह की छोटी मोटी दुकान वालों के सामने जो रोजी रोटी का संकट खड़ा हुआ था, उससे हम सभी वाकिफ हैं। 24 मार्च 2020 को लॉकडाउन लागू हुआ था। एक साल के अंदर दिल्ली एनसीआर के करीब 10 फीसदी छोटे-छोटे उद्योग बंद हो गए हैं। जो धंधे बचे रहे, उन्हें फिर से स्थापित होने में ही वक्त लग गया।

​नौकरी जाने का डर

लॉकडाउन के दौरान संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों में लोगों की नौकरियां गईं। कॉस्ट कटिंग, बिजनेस बंद होने के चलते बड़ै पैमाने पर छंटनियों का दौर चला। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इकनॉमी यानी सीएमआईई (CMIE) के मुताबिक, भारत में करीब 21 फीसदी लोग नौकरीपेशा हैं, जिन पर कोरोना की मार सबसे अधिक पड़ी। जुलाई 2020 के महीने में करीब 50 लाख लोगों की नौकरी गई। जिसके चलते कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन की वजह से नौकरी गंवाने वालों की संख्या 1.89 करोड़ तक पहुंच गई है। 1.77 करोड़ लोगों ने अप्रैल 2020 में नौकरी गंवाई थी और मई में करीब 1 लाख लोगों की नौकरी गई। इसके बाद जून में करीब 39 लाख लोगों को नौकरी वापस मिल गई थी।

​वेतन वृद्धि, बोनस रुकने का डर

नौकरीपेशा लोगों में से ज्यादातर ऐसे रहे, जिनका पिछले साल इंक्रीमेंट नहीं हुआ। उल्टा कई कंपनियों ने सैलरी कट की। इस साल इंक्रीमेंट लगने की उम्मीद जागी थी लेकिन अब कोविड के बढ़ते मामलों और बढ़ रहे प्रतिबंधों से एक बार फिर इंक्रीमेंट टलने की आशंका पैदा होने लगी है। अगर एक बार फिर लॉकडाउन हो गया तो कंपनियों को फिर से नुकसान झेलना पड़ेगा और अधिकतर कंपनियां इसे कर्मचारियों की वेतन वृद्धि रोककर या सैलरी में कटौती कर कम करने की कोशिश करेंगी।

शादियों के लिए बुकिंग में पैसे डूबने का डर

शादियों का सीजन शुरू होने वाला है। शादियों के लिए लोग पहले से बुकिंग करा लेते हैं- जैसे बैंकेट हॉल या गेस्ट हाउस की बुकिंग, बैंड की बुकिंग, केटरर्स, डेकोरेटर्स की बुकिंग आदि। अब ऐसे में अगर लॉकडाउन हुआ तो ये बुकिंग बेकार हो जाएंगी। इस बुकिंग पर आगे काम हो, न हो, कहा नहीं जा सकता। ऐसे में आम आदमी को अपनी पूंजी गंवानी पड़ सकती है।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

सुरेश कश्यप ने भाजपा सदस्यों से ‘टीका उत्सव’ को सफल बनाने का किया आग्रह

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला भाजपा प्रदेश पदाधिकारी, मंत्रीगण, विधायकगण, 2017 के प्रत्याशी, 17 ज़िला अध्यक्ष एवं मंडल अध्यक्षों की रक बैठक का आयोजन वर्चुअल माध्यम...

एसएफआई ने विश्वविद्यालय उपकुलपति की योग्यता पर उठाएं गंभीर सवाल

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला एसएफआई कैंपस सचिव रॉकी ने विश्वविद्यालय उपकुलपति की योग्यता पर सवाल उठाते हुए बताया कि राइट टू इनफार्मेशन एक्ट के तहत...

अगर सरकार ने जल्द निर्णय नहीं लिया तो सड़कों पर उतरेगा छात्र-अभिभावक संघ

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला छात्र-अभिभावक मंच हिमाचल प्रदेश ने निजी स्कूलों द्वारा वर्ष 2021 की ट्यूशन फीस में फीस में पंद्रह से पैंसठ प्रतिशत बढ़ोतरी...

जिला को सूखाग्रस्त घोषित करे प्रदेश सरकार : विधायक

एसके शर्मा। हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र बड़सर विधायक इंद्र दत्त लखनपाल नें प्रदेश सरकार से मांग की है कि जिला हमीरपुर को सूखाग्रस घोषित कर किसानों...

Related News

सुरेश कश्यप ने भाजपा सदस्यों से ‘टीका उत्सव’ को सफल बनाने का किया आग्रह

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला भाजपा प्रदेश पदाधिकारी, मंत्रीगण, विधायकगण, 2017 के प्रत्याशी, 17 ज़िला अध्यक्ष एवं मंडल अध्यक्षों की रक बैठक का आयोजन वर्चुअल माध्यम...

एसएफआई ने विश्वविद्यालय उपकुलपति की योग्यता पर उठाएं गंभीर सवाल

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला एसएफआई कैंपस सचिव रॉकी ने विश्वविद्यालय उपकुलपति की योग्यता पर सवाल उठाते हुए बताया कि राइट टू इनफार्मेशन एक्ट के तहत...

अगर सरकार ने जल्द निर्णय नहीं लिया तो सड़कों पर उतरेगा छात्र-अभिभावक संघ

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला छात्र-अभिभावक मंच हिमाचल प्रदेश ने निजी स्कूलों द्वारा वर्ष 2021 की ट्यूशन फीस में फीस में पंद्रह से पैंसठ प्रतिशत बढ़ोतरी...

जिला को सूखाग्रस्त घोषित करे प्रदेश सरकार : विधायक

एसके शर्मा। हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र बड़सर विधायक इंद्र दत्त लखनपाल नें प्रदेश सरकार से मांग की है कि जिला हमीरपुर को सूखाग्रस घोषित कर किसानों...

BREAKING : कांगडा जिले में 128 लोग पॉजिटिव, 3 दिन में 437 लोग संक्रमित और 10 की मौत, एक्टिव मरीज 1100 के करीब

उज्जवल हिमाचल। कांगडा कांगडा में कोरोना का कहर जारी है। रविवार को कांगडा जिले में 128 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हालांकि रविवार को राहत...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: