Saturday, June 12, 2021
Home Himachal मुक्केबाज का निधन, खेल मंत्री भी हैं दुखी

मुक्केबाज का निधन, खेल मंत्री भी हैं दुखी

उज्जवल हिमाचल। डेस्क

भारत के पूर्व मुक्केबाज और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता डिंग्को सिंह का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को निधन हो गया। वह 42 वर्ष के थे। भारत के अब तक के सबसे बेहतरीन मुक्केबाजों में से एक माने जाने वाले डिंग्को ने 1998 के बैंकाक एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री किरण रिजिजू ने डिंग्को के निधन पर शोक व्यक्त किया और बॉक्सर को भारत में खेल के प्रति दीवानगी पैदा करने का श्रेय दिया।

खेल मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट करते हुए लिखा, “डिंग्को सिंह के निधन से मुझे गहरा दुख हुआ है। भारत के अब तक के सबसे बेहतरीन मुक्केबाजों में से एक, 1998 के बैंकाक एशियाई खेलों में डिंग्को के स्वर्ण पदक ने भारत में बॉक्सिंग चेन रिएक्शन को जन्म दिया। मैं शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना प्रकट करता हूं। भगवान तुम्हारी आत्मा को शांति दे, डिंको।”

भारत के पेशेवर मुक्केबाजी सुपरस्टार विजेंदर सिंह ने कहा कि डिंग्को की जीवन यात्रा और संघर्ष हमेशा आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत रहेगा। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “इस क्षति पर मैं संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। उनके जीवन की यात्रा और संघर्ष हमेशा आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा स्रोत बने रहें। मैं प्रार्थना करता हूं कि शोक संतप्त परिवार को इस दुख और शोक की अवधि से उबरने की शक्ति मिले।”

गौरतलब है कि महान मुक्केबाज डिंग्को सिंह को मई 2020 में कोरोना वायरस टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया था, लेकिन इस मुक्केबाज ने कोरोना को जल्द ही मात दे दी थी, लेकिन कैंसर के आगे उन्होंने अपने बॉक्सिंग ग्लव्स डाल दिए। पिछले साल अप्रैल में डिंग्को को उनके लीवर कैंसर के इलाज के लिए इम्फाल से राष्ट्रीय राजधानी ले जाया गया था।

एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले दिग्गज बॉक्सर डिंग्को सिंह (Dingko Singh) का गुरुवार को निधन हो गया। वह लंबे समय बीमार थे। डिंग्को सिंह का 2017 से ही लिवर कैंसर के लिए उपचार चल रहा था। उन्हें साल 1998 में अर्जुन पुरस्कार और 2013 में पद्म श्री सम्मान से नवाजा गया था। वह मैरीकॉम (MC Marykom) जैसे कई स्टार बॉक्सर के रोल मॉडल हैं।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बराड़ व कुलभाष ने कोरोना संक्रमितों को बांटी संजीवनी किटें

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा जिला परिषद अध्यक्ष रमेश बराड़ व कुलभाष चैधरी अब्दुलापुर व जमानाबाद में होम आइसोलेशन में रह रहें कोरोना संक्रमितों को घर द्वार...

फोरलेन की बेतरतीब कटिंग के चलते घर को पहुंचा नुकसान

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। साेलन परमाणु से शिमला फोरलेन निर्माण में लगी कंपनी की लापरवाही के चलते जिला सोलन के कुम्हारी स्थित बाडा गांव में एक...

मृत मोर काे युवाओं ने तिरंगे में लपेट कर किया वन विभाग के सुपुर्द

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। ऊना पेखुबेला स्थित लमलेहड़ा सासन गांव को जाने वाले कच्चे रास्ते के पास चंगर स्थान में राष्ट्रीय पक्षी मोर मृत मिला है।...

स्वास्थ्य केंद्र में राेजाना लग रही 40-50 वैक्सीनें

संजीव कुमार। गोहर वैश्विक महामारी कोविड 19 कोरोना वायरस की दूसरी लहर में लाखों करोड़ों लोग प्रभावित हुए हैं। लाखों लोगों की जिंदगी इस महामारी...

Related News

बराड़ व कुलभाष ने कोरोना संक्रमितों को बांटी संजीवनी किटें

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा जिला परिषद अध्यक्ष रमेश बराड़ व कुलभाष चैधरी अब्दुलापुर व जमानाबाद में होम आइसोलेशन में रह रहें कोरोना संक्रमितों को घर द्वार...

फोरलेन की बेतरतीब कटिंग के चलते घर को पहुंचा नुकसान

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। साेलन परमाणु से शिमला फोरलेन निर्माण में लगी कंपनी की लापरवाही के चलते जिला सोलन के कुम्हारी स्थित बाडा गांव में एक...

मृत मोर काे युवाओं ने तिरंगे में लपेट कर किया वन विभाग के सुपुर्द

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। ऊना पेखुबेला स्थित लमलेहड़ा सासन गांव को जाने वाले कच्चे रास्ते के पास चंगर स्थान में राष्ट्रीय पक्षी मोर मृत मिला है।...

स्वास्थ्य केंद्र में राेजाना लग रही 40-50 वैक्सीनें

संजीव कुमार। गोहर वैश्विक महामारी कोविड 19 कोरोना वायरस की दूसरी लहर में लाखों करोड़ों लोग प्रभावित हुए हैं। लाखों लोगों की जिंदगी इस महामारी...

बत्रा कॉलेज में मनाया विश्व बाल श्रम निषेध दिवस

उज्जवल हिमाचल। पालमपुर शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा राजकीय महाविद्यालय पालमपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना संस्था ने विश्व बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर एक...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: