Saturday, March 6, 2021
Home Slider कई बीमारियों के लिए रामबाण है बुरांस का फूल

कई बीमारियों के लिए रामबाण है बुरांस का फूल

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। धर्मशाला

प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण हिमाचल प्रदेश अपने हरे-भरे जंगलों, कलकल बहते नदी-नालों, बर्फ से लदे पहाड़ों और बेशकीमती जड़ी-बूटियों की वजह से विश्व के मानचित्र पर अपनी विशेष पहचान रखता है। हिमाचल के जंगलों में कई ऐसे फल-फूल और जड़ी-बूटियां मौजूद हैं, जो अपने विशिष्ट गुणों के कारण कई बीमारियों में रामबाण का काम करते हैं। ऐसे ही विशिष्ट गुणों से भरपूर है- बुरांस के फूल, जो जनवरी माह के अंत तक जंगलों में खिलना आरंभ हो जाते हैं। इसके विशिष्ट गुणों के चलते लोग साल भर इसके खिलने का इंतजार करते हैं। इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बाजार में आते ही यह हाथों-हाथ बिक जाता है।

हिमाचल के पहाड़ों पर आजकल खिले ‘बुरांस के फूल’ स्थानीय लोगों के अलावा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। मनमोहक, आकर्षक एवं कुदरती गुणों से भरे हुए इन फूलों को प्रदेश में आने वाले पर्यटक और स्थानीय लोग अपने-अपने कैमरों में कैद कर रहे हैं। भले ही बुरांस के ये फूल कुछ दिनों बाद जंगल से अपना डेरा-डंडा उठा लें, लेकिन लोगों की स्मृतियों और कैमरों में कैद होने के बाद ताउम्र ताजा रहेंगे।

बुरांस के पेड़ समुद्रतल तल से लगभग 1500 मीटर से 3600 मीटर तक की ऊंचाई पर पाए जाते हैं। यह वृक्ष मुख्यतः ढलानदार जमीन पर पाए जाते हैं। बुरांस की विशेषता है कि वे देखने में जितने सुंदर होते हैं, उतने ही स्वास्थ्यवर्धक भी होते हैं। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा, मंडी, शिमला, चंबा तथा सिरमौर ज़िलों में बुरांश के पेड़ अधिक संख्या में पाए जाते हैं। स्थानीयता के अनुसार इन फूलों को विभिन्न जिलों में आमतौर पर बुरांस, ब्रास, बुरस या बराह के फूल के नाम से जाना जाता है।

विशेषज्ञों के अनुसार लाल रंग वाले बुरांस के फूलों का औषधीय महत्व अधिक होता है। कई शोधों के अनुसार बुरांस एंटी डायबिटिक, एंटी इन्फ्लामेट्री और एंटी बैक्टिरियल गुणों से भरपूर होता है। इस तरह इन फूलों को बेहद स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। लोग इन्हें बवासीर, लीवर, किडनी रोग, खूनी दस्त व बुखार इत्यादि के दौरान प्रयोग में लाते हैं। कई लोग इनकी पखुंड़ियों को सुखाने के बाद इन्हें साल भर प्रयोग में लाते हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में, जहां वृद्ध आज भी बुरांश के मौसम में इसकी चटनी बनवाना नहीं भूलते। वहीं, युवाओं में भी यह चटनी इतनी ही प्रिय है। इसके अलावा अब आधुनिक फल विधायन के माध्यम से बुरांश के फूलों का जूस बनाया जा रहा है। बुरांस का जूस बाजार में साल भर आसानी से उपलब्ध रहता है, जो इसकी बढ़ती लोकप्रियता का द्योतक है। जहां, इन फूलों का प्रयोग औषधीय रूप में किया जाता है। वहीं, यह कई सप्ताह तक स्थानीय लोगों की अतिरिक्त आय के साधन के रूप में उनकी आर्थिकी को संबल प्रदान करता है।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

नुरपूर नगर परिषद की बैठक में सफाई व्यवस्था पर मंथन

विनय महाजन। नुरपूर नुरपर नगर परिषद की एक वैठक परिषद के आफिस में संपन्न हुई। बैठक की शिरकत नगर परिषद के अध्यक्ष अशोक शर्मा ने...

समरहिल में आयोजित किया गया भाजपा का प्रशिक्षण वर्ग

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला शिमला, भाजपा शिमला मंडल का प्रशिक्षण वर्ग आज समरहिल में आयोजित किया गया इस प्रशिक्षण वर्ग में प्रदेश सरकार के शहरी...

भाजपा के धनबल का जवाब कांग्रेस जन बल से देगी : राठौर

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। धर्मशाला     कांग्रेस पार्टी ने आगामी नगर निगम चुनावों को लेकर पर्यवेक्षकों की नियुक्ति कर दी है। इसी के साथ पर्यवेक्षक पार्टी के...

स्कूल खोलने को लेकर गाइडलाइंस का किया जाएगा पूरा पालन

बनीखेत। तलविंदर सिंह देश में कोरोना संक्रमण अब धीरे धीरे नियंत्रण में आ रहा है,लेकिन अभी संक्रमण का खतरा पुरी तरह से खत्म नहीं हुआ...

Related News

नुरपूर नगर परिषद की बैठक में सफाई व्यवस्था पर मंथन

विनय महाजन। नुरपूर नुरपर नगर परिषद की एक वैठक परिषद के आफिस में संपन्न हुई। बैठक की शिरकत नगर परिषद के अध्यक्ष अशोक शर्मा ने...

समरहिल में आयोजित किया गया भाजपा का प्रशिक्षण वर्ग

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला शिमला, भाजपा शिमला मंडल का प्रशिक्षण वर्ग आज समरहिल में आयोजित किया गया इस प्रशिक्षण वर्ग में प्रदेश सरकार के शहरी...

भाजपा के धनबल का जवाब कांग्रेस जन बल से देगी : राठौर

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। धर्मशाला     कांग्रेस पार्टी ने आगामी नगर निगम चुनावों को लेकर पर्यवेक्षकों की नियुक्ति कर दी है। इसी के साथ पर्यवेक्षक पार्टी के...

स्कूल खोलने को लेकर गाइडलाइंस का किया जाएगा पूरा पालन

बनीखेत। तलविंदर सिंह देश में कोरोना संक्रमण अब धीरे धीरे नियंत्रण में आ रहा है,लेकिन अभी संक्रमण का खतरा पुरी तरह से खत्म नहीं हुआ...

विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा बैठक

उज्जवल हिमाचल ब्यूरो। शिमला   पंचायती राज व ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर ने शिमला के पीटरहॉफ में आयोजित ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग की समीक्षा...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: