Monday, July 26, 2021
Home Himachal इस व्रत कथा से समस्त पापों का होगा नाश

इस व्रत कथा से समस्त पापों का होगा नाश

उज्जवल हिमाचल। डेस्क

आषाढ़ शुक्ल के एकादशी को देवशयनी एकादशी के व्रत के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु का शयन काल शुरू हो जाता है। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन से भगवान विष्णु चातुर्मास के लिए निद्रा पर चले जाते हैं। इस बार देवशयनी एकादशी मंगलवार 20 जुलाई 2021 को पड़ रहा है, इसलिए इस दिन से लेकर चार माह तक कोई शुभ कार्य नहीं होगा। देवशयनी एकादशी को हरिशयनी भी कहते हैं। धार्मिक मान्यताओं में देवशयनी एकादशी व्रत सबसे श्रेष्ठ एकादशी मानी जाती है। इस व्रत से व्यक्ति के सभी पापों का नाश हो जाता है। आज हम देवशयनी एकादशी की कथा का विस्तार से वर्णन करेंगे।

देवशयनी एकादशी व्रत कथा
सतयुग में मांधाता नामक एक चक्रवर्ती राजा राज्य करते थे। मांधाता के राज्य में प्रजा बहुत सुखी थी। एक बार उनके राज्य में तीन साल तक वर्षा नहीं होने की वजह से भयंकर अकाल पड़ा गया था। अकाल से चारों ओर त्रासदी का माहौल बन गया था। इस वजह से यज्ञ, हवन, पिंडदान, कथा-व्रत आदि कार्य में कम होने लगे थे। प्रजा ने अपने राजा के पास जाकर अपने दर्द के बारे में बताया।

राजा इस अकाल से चिंतित थे। उन्हें लगता था कि उनसे आखिर ऐसा कौन सा पाप हो गया, जिसकी सजा इतने कठोर रुप में मिल रही थी । इस संकट से मुक्ति पाने के उद्देश्य से राजा सेना को लेकर जंगल की ओर चल दिए। जंगल में विचरण करते हुए एक दिन वे ब्रह्माजी के पुत्र अंगिरा ऋषि के आश्रम पहुंचे गए। ऋषिवर ने राजा का कुशलक्षेम और जंगल में आने कारण पूछा।

add city hospital

राजा ने हाथ जोड़कर कहा कि मैं पूरी निष्ठा से धर्म का पालन करता हूं, फिर भी मेरे राज्य की ऐसी हालत क्यों है? कृपया इसका समाधान करें। राजा की बात सुनकर महर्षि अंगिरा ने कहा कि यह सतयुग है। इस युग में छोटे से पाप का भी बड़ा भयंकर दंड मिलता है। महर्षि अंगिरा ने राजा मांधाता को बताया कि आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी का व्रत करें। इस व्रत के फल स्वरूप अवश्य ही वर्षा होगी।

महर्षि अंगिरा के निर्देश के बाद राजा अपने राज्य की राजधानी लौट आए। उन्होंने चारों वर्णों सहित पद्मा एकादशी का विधिपूर्वक व्रत किया, जिसके बाद राज्य में मूसलधार वर्षा हुई। ब्रह्म वैवर्त पुराण में देवशयनी एकादशी के विशेष महत्व का वर्णन किया गया है। देवशयनी एकादशी के व्रत से व्यक्ति की समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

स्कूल खुलते ही स्वच्छता अभियान में जुटे अध्यापक

एमसी शर्मा। नादौन कोरोना महामारी की दूसरी लहर से निपटने के बाद एक बार फिर सोमवार से हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा सभी विद्यालय खोल दिए...

कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया याद

एमसी शर्मा। नादौन कारगिल विजय दिवस के अवसर पर तहसील कार्यालय परिसर नादौन में कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। इस दौरान शहीदों की...

विधानसभा अध्यक्ष ने सम्मानित की वीरनारियां और शहीदों के परिजन

उज्जवल हिमाचल। पालमपुर कारगिल विजय दिवस की 22वीं वर्षगांठ पर विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने वीर नारियों, शहीदों के परिजन और भूतपूर्व सैनिक...

छाेटी उम्र में ही देश के लिए शहीद हुए थे अशोक कुमार

दिनेश चौधरी। फतेहपुर उपमंडल फतेहपुर की लोहरा पंचायत का कारगिल युद्ध दौरान शहीद अशोक कुमार की वृद्ध माता शांति देवी व भतीजी को आज भी...

Related News

स्कूल खुलते ही स्वच्छता अभियान में जुटे अध्यापक

एमसी शर्मा। नादौन कोरोना महामारी की दूसरी लहर से निपटने के बाद एक बार फिर सोमवार से हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा सभी विद्यालय खोल दिए...

कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया याद

एमसी शर्मा। नादौन कारगिल विजय दिवस के अवसर पर तहसील कार्यालय परिसर नादौन में कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। इस दौरान शहीदों की...

विधानसभा अध्यक्ष ने सम्मानित की वीरनारियां और शहीदों के परिजन

उज्जवल हिमाचल। पालमपुर कारगिल विजय दिवस की 22वीं वर्षगांठ पर विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने वीर नारियों, शहीदों के परिजन और भूतपूर्व सैनिक...

छाेटी उम्र में ही देश के लिए शहीद हुए थे अशोक कुमार

दिनेश चौधरी। फतेहपुर उपमंडल फतेहपुर की लोहरा पंचायत का कारगिल युद्ध दौरान शहीद अशोक कुमार की वृद्ध माता शांति देवी व भतीजी को आज भी...

दी भरमोटी सहकारी सभा समिति के चुनाव 20 को

एमसी शर्मा। नादौन दी भरमोटी सहकारी सभा समिति की प्रबंधक कमेटी का चुनाव आगामी 20 अगस्त को होगा। जानकारी देते हुए सभा सचिव महेंद्र सिंह...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: