हिमाचलः हिमाचल को देवभूमि बनाने व नशे जैसी कुरीतियों को उजागर करें पत्रकारः राज्यपाल

हिमाचलः हिमाचल को देवभूमि बनाने व नशे जैसी कुरीतियों को उजागर करें पत्रकारः राज्यपाल

उज्जवल हिमाचल। शिमला
भारतीय पत्रकार कल्याण मंच द्वारा आज शिमला के ऐतिहासिक गेयटी थिएटर(Historic Gaiety Theater) में एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में आजादी के 75 वर्षाे में पत्रकारों का योगदान विषय पर चर्चा की गयी। इस अवसर पर राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।

राज्यपाल प्रताप शुक्ल ने संगोष्ठी ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि पत्रकारों द्वारा लिखे गए एक-एक शब्द पर पढ़ने वाले लोग मंथन करते है और इन्ही शब्दों का व्यापक असर समाज पर पड़ता है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता ने निर्भीकता से स्वतंत्रता के पश्चात् अपने मिशन को बढ़ाया है और भारत के विकास में आने वाली हर अच्छे-बुरे विषयों को उजागर किया है।

यह खबर पढ़ेंः हिमाचलः पंडोह और लारजी डैम से छोड़ा गया पानी, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

उन्होंने कहा कि स्वतंत्र पत्रकारिता हिन्दुस्तान का प्रमुख अंग है। राज्यपाल ने पत्रकारों का आह्वान करते हुए कहा कि हिमाचल को देवभूमि बनाने के लिए और अधिक संघर्ष करना पड़ेगा और नशे की कुरीतियों को खत्म करना होगा। उन्होंने कहा कि पत्रकार सरकार को डराने का मादा रखते है। तो पत्रकार नशे के खि़लाफ़ भी डर पैदा करे और नशे जैसी कुरीतियों के खि़लाफ़ समाज में माहौल बनाने के प्रयास करें।

ब्यूरो रिपोर्ट शिमला

हिमाचल प्रदेश की ताजातरीन खबरें देखने के लिए उज्जवल हिमाचल के फेसबुक पेज को फॉलो करें।