Saturday, January 16, 2021
Home मनोरंजन TV समाचार पंजाबी गायक काका की कहानी : मजदूरी करते हैं पिता, बेटा सिंगिंग...

पंजाबी गायक काका की कहानी : मजदूरी करते हैं पिता, बेटा सिंगिंग स्टार

उज्जवल हिमाचल। डेस्क

सोशल मीडिया के दौर में कुछ ऐसे नायाब कलाकार भी लोगों को मिले हैं, जो किसी मौके के मोहताज नहीं रहे और अपने ही दम पर पहचान बनाने में कामयाब हुए हैं। इनमें ही एक नाम पंजाबी सिंगर काका का भी शुमार किया जाता है। यूट्यूब पर 2019 में अपना एक गाना सूरमा उन्होंने शेयर किया था। इस गाने को अपार लोकप्रियता मिली थी और तब से अब तक काका लगातार छाए हुए हैं। लिबास, तीजी सीट, धूर पेंडी, तेन्नू नी खबरां जैसे कई गानों के चलते काका पंजाबी म्यूजिक में नए स्टार के तौर पर उभरे हैं। महज एक साल के अंदर काका की लोकप्रियता इतनी तेजी से बढ़ी है कि उनके ज्यादातर गानों के व्यूज करोड़ों में हैं।

काका की यह सफलता इसलिए भी चौंकाती है क्योंकि उन्होंने किसी प्रोडक्शन कंपनी की मदद के बिना ही यह सफलता हासिल की है। 26 साल के काका का जन्म पंजाब के चंदूमाजरा में हुआ था। सरकारी स्कूल से 12वीं तक की पढ़ाई करने के बाद बीटेक करने वाले काका के पिता एक राजमिस्त्री के तौर पर काम करते हैं। काका को 5वीं क्लास से ही पंजाबी लोकगीतों को गाने का शौक था। वह अकसर सिंगिंग कॉम्पीटीशन में भाग लिया करते थे। सिख परिवार में जन्मे काका न सिर्फ गाते हैं बल्कि गाने लिखते भी हैं। उनके कई गानों को जबरदस्त लोकप्रियता मिली है।

यहां तक कि मंगलवार को ही रिलीज हुआ उनका नया गाना इग्रोर महज एक दिन में ही दो मिलियन व्यूज के आंकड़े तक पहुंचने वाला है। भगवान शिव पर आधारित काका का गाना भोलेनाथ भी काफी पॉप्युलर हुआ था। पंजाबी संगीत के दीवानों के लिए वह नई सनसनी की तरह हैं। काका ने यूं तो 2019 में ही सूरमा गाने के जरिए करियर शुरू कर दिया था, लेकिन उन्हें असली पहचान 2020 में आए उनके गाने तीजी सीट से मिली थी। इस गाने को न सिर्फ उन्होंने लिखा था बल्कि आवाज भी दी थी। उस गाने की लोकप्रियता के बाद काका ने एक के बाद एक लगातार कई हिट गाने दिए हैं। माना जा रहा है कि काका आने वाले समय में पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री में बड़े स्टार के तौर पर उभर सकते हैं। काका भले ही देखने में एक सामान्य युवक लगते हैं, लेकिन उनकी प्रतिभा असाधारण है। महज एक साल में ही उनका बड़ा फैन बेस तैयार हुआ है।

 

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

पौंग झील में मत्स्य आखेट पर प्रतिबंध, मछुआरों को पड़े रोजी-रोटी के लाले

दौलत चौहान। जवाली बर्ड फ्लू से प्रवासी पक्षियों की मौत होने के कारण पौंग झील में मत्स्य आखेट पर एकदम से प्रतिबंध लगा देने...

दुकान से घर जा रहे एलआईसी एजेंट पर जानलेवा हमला

उज्जवल हिमाचल। परागपुर परागपुर में शुक्रवार देर शाम अज्ञात लोगों ने 75 वर्षीय वृद्ध पर जानलेवा हमले का मामला सामने आया है। वृद्ध को टांडा...

चुनाव प्रचार बंद, कल 503 मतदान केंद्रों पर होगा मतदान

एसके शर्मा। हमीरपुर हमीरपुर जिला में पंचायतीराज संस्थाओं के पहले चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार बंद हो गया है। चुनाव प्रचार पर रोक...

आईजीएमसी के एमएस काे लगी सबसे पहले वैक्सीन

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के आइजीएमसी में सबसे बड़ा टीकाकरण का अभियान शुरू कर दिया है। प्रदेश के सबसे...

Related News

पौंग झील में मत्स्य आखेट पर प्रतिबंध, मछुआरों को पड़े रोजी-रोटी के लाले

दौलत चौहान। जवाली बर्ड फ्लू से प्रवासी पक्षियों की मौत होने के कारण पौंग झील में मत्स्य आखेट पर एकदम से प्रतिबंध लगा देने...

दुकान से घर जा रहे एलआईसी एजेंट पर जानलेवा हमला

उज्जवल हिमाचल। परागपुर परागपुर में शुक्रवार देर शाम अज्ञात लोगों ने 75 वर्षीय वृद्ध पर जानलेवा हमले का मामला सामने आया है। वृद्ध को टांडा...

चुनाव प्रचार बंद, कल 503 मतदान केंद्रों पर होगा मतदान

एसके शर्मा। हमीरपुर हमीरपुर जिला में पंचायतीराज संस्थाओं के पहले चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार बंद हो गया है। चुनाव प्रचार पर रोक...

आईजीएमसी के एमएस काे लगी सबसे पहले वैक्सीन

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के आइजीएमसी में सबसे बड़ा टीकाकरण का अभियान शुरू कर दिया है। प्रदेश के सबसे...

TMC में वार्ड ब्वाय की शर्मनाक करतूत, नाबालिग से छेड़छाड़

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा इलाज के भर्ती एक नाबालिग लडक़ी से वार्ड ब्वाय द्वारा छेड़छाड़ के मामले ने टांडा अस्पताल को शर्मसार किया है। कॉलेज के...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: