Saturday, February 27, 2021
Home Slider भाजपा के लिए आसान नहीं हाेगा पश्चिम बंगाल का किला फतह करना

भाजपा के लिए आसान नहीं हाेगा पश्चिम बंगाल का किला फतह करना

भाजपा को लेकर क्‍या है राजनीतिक विश्‍लेषकों की भविष्‍यवाणी

उज्जवल हिमाचल। नई दिल्‍ली

भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर पिछले वर्ष दिसंबर में कोलकाता दौर के वक्‍त हमला हुआ था। इसमें पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय समेत कई नेता घायल हो गए थे। इसके बाद कुछ दिन पहले ही राज्‍य के मंत्री के ऊपर बम से हमला किया गया। इसके बाद दो दिन पहले पश्चिम बंगाल में भाजपा के अध्‍यक्ष के ऊपर भी हमला किया गया। सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी खुद पश्चिम बंगाल जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं, वैसे-वैसे ही वहां पर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। चुनाव से पहले राज्‍य में शुरू ही हिंसा और हमले की घटनाएं इस बात की तरफ इशारा कर रही है कि वहां पर चुनाव की राह आसान नहीं है। हालांकि राजनीतिक विश्‍लेषकों की बात करें, तो हिंसा की इन घटनाओं के पीछे वो राजनीतिक मकसद मानते हैं। आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में स्‍थानीय स्‍तर से लेकर राष्‍ट्रीय स्‍तरीय नेताओं के ऊपर हमले की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

राजनीतिक विश्‍लेषक इस बात को लेकर एक राय रखते हैं कि पश्चिम बंगाल के चुनाव में भाजपा और सत्‍ताधारी तृणमूल कांग्रेस पार्टी के बीच सीधा और कड़ा मुकाबला है। इन विशेषज्ञों का ये भी कहना है कि यहां पर चुनावी इतिहास काफी लंबा है। इस बार भी शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव का होना काफी मुश्किल लगता है। हालांकि इनका ये भी कहना है कि इस बार के चुनाव में पहले की अपेक्षा कम हिंसा देखने को मिलेगी। पश्चिम बंगाल की राजनीति पर नजर रखने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्‍लेषक प्रदीप सिंह का मानना है कि भाजपा पूरी ताकत के साथ इस चुनाव में उतरी है। भाजपा यहां पर राष्‍ट्रीयता के मुद्दे को लेकर आगे बढ़ी है।

साथ ही पार्टी ने राज्‍य में ममता सरकार की तुष्‍टीकरण की राजनीति के खिलाफ जो मोर्चा खोला है, उसका उसे फायदा जरूर होगा। चुनाव में विपक्षी पार्टियों के वोटर्स को डराने की कोशिश पर प्रदीप सिंह का कहना है कि अब लोग इस तरह की राजनीति से थक चुके हैं। अब वो बाहर निकलेंगे। इसका फायदा भाजपा को होगा। वहीं, शिवाजी सरकार भी मानते हैं कि पश्चिम बंगाल में वर्षों से सत्‍ताधारी पार्टियां इसी तरह से अपने विरोधियों को डरा-धमकाकर चुनाव जीतती आई हैं। इस बार लोग बेहद करीब से इसको देख रहे हैं। शिवाजी की राय में ममता जिस तरह की भाषा का उपयोग करती हैं, उसको वहां के पढ़े-लिखे लोग सही नहीं मानते हैं। भाजपा इस चुनाव में ममता पर काफी आक्रामक है और साथ ही उसकी मौजूदगी भी पहले से कहीं ज्‍यादा दिखाई दे रही है, जिसका फायदा उसको हो सकता है।

प्रदीप सिंह का ये भी कहना है कि भाजपा लोगों को ये बताने में काफी हद तक सफल होती दिखाई दे रही है कि ममता हिंदुओं के बारे में नहीं सोचती हैं। वहीं, ममता द्वारा जय श्रीराम के नारे का विरोध करने की घटना ने इसको कहीं न कहीं प्रमाणित करने का काम किया है। इसके बाद यहां ये एक ममता विरोध का नारा बन चुका है, जहां तक इस चुनाव में ममता के तरीके की बात है, तो ये पहले की ही तरह है, लेकिन भाजपा उसको जवाब देने की भूमिका में है। केंद्र में सरकार होने का फायदा भी कहीं न कहीं पार्टी को मिल सकता है।

उनका ये भी कहना है कि चुनावी हिंसा जिस तरह से लेफ्ट और टीएमसी पहले कर लेती थी, इस बार वैसा नहीं हो सकेगा। 2019 के लोकसभा चुनाव में इसकी शुरुआत हो चुकी है। इस बार के विधानसभा चुनव में राज्‍य पुलिस का उपयोग न के ही बराबर होगा। इसलिए टीएमसी इस बार हिंसा का फायदा अपनी जीत के लिए नहीं उठा सकेंगी। हालांकि वो ये भी मानते हैं कि ये चुनाव हिंसा रहित नहीं होने वाला है।

शिवाजी और प्रदीप दोनों ही इस बात को लेकर एकराय रखते हैं कि ममता को सत्‍ता से हटाना भाजपा के लिए आसान नहीं है, तो इतना मुश्किल भी नहीं होगा, लेकिन इस बारे में अभी कुछ कहना जल्‍दबाजी होगी। ये इस बात पर तय करेगा कि चुनाव में लोग कैसे वोट करते हैं।

साथ ही मुस्लिम वोटों में जो बंटवारा होगा ये काफी कुछ इस पर भी निर्भर करेगा। दोनों विशेषज्ञों की निगाह में ममता न सिर्फ राजनीति में बड़ा कद रखती हैं, बल्कि जमीन से जुड़ी हुई नेता है। इसके बावजूद सरकार के खिलाफ दस साल की पुरजोर होती आवाज और उनपर लगे भ्रष्‍टाचार के आरोप अभी लोगों के जहन में ताजा हैं। इसका फायदा भाजपा को मिल सकता है।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

पंचायत ने ब्लॉक समिति उपाध्यक्ष और प्रधान को किया सम्मानित

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा दौलतपुर पंचायत में ब्लॉक समिति उपाध्यक्ष अनीता और प्रधान दिलावर को सम्मानित किया। पंचायत की यह बैठक हर माह होती है जिसमें...

पैर फिसलने से नाले में गिरी आशा वर्कर, मौत

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा गुलेर और लुणसू रेलवे स्टेशन के बीच पठानकोट-जोगिंद्रनगर रेलवे ट्रैक पर शनिवार को एक महिला की पुल से गिरने से मौत हो...

रवि दास जयंती के उपलक्ष्य पर क्रिकेट मैच का आयोजन

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा उपमंडलीय खेल परिषद द्वारा आज रवि दास जयंती पर तहसीलदार एकादश कांगड़ा बनाम तहसीलदार धर्मशाला के बीच क्रिकेट मैच का आयोजन किया...

केंद्रीय रेल मंत्री पहुंचे राजधानी, कालीबाड़ी मंदिर में लिया आशीर्वाद

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला आज शिमला पहुंचे केंद्रीय रेल मंत्री का भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप व प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने...

Related News

पंचायत ने ब्लॉक समिति उपाध्यक्ष और प्रधान को किया सम्मानित

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा दौलतपुर पंचायत में ब्लॉक समिति उपाध्यक्ष अनीता और प्रधान दिलावर को सम्मानित किया। पंचायत की यह बैठक हर माह होती है जिसमें...

पैर फिसलने से नाले में गिरी आशा वर्कर, मौत

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा गुलेर और लुणसू रेलवे स्टेशन के बीच पठानकोट-जोगिंद्रनगर रेलवे ट्रैक पर शनिवार को एक महिला की पुल से गिरने से मौत हो...

रवि दास जयंती के उपलक्ष्य पर क्रिकेट मैच का आयोजन

उज्जवल हिमाचल। कांगड़ा उपमंडलीय खेल परिषद द्वारा आज रवि दास जयंती पर तहसीलदार एकादश कांगड़ा बनाम तहसीलदार धर्मशाला के बीच क्रिकेट मैच का आयोजन किया...

केंद्रीय रेल मंत्री पहुंचे राजधानी, कालीबाड़ी मंदिर में लिया आशीर्वाद

उज्जवल हिमाचल ब्यूराे। शिमला आज शिमला पहुंचे केंद्रीय रेल मंत्री का भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप व प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने...

खेतों में करें कम से कम रसायन खाद का प्रयोग

एसके शर्मा । हमीरपुर  कृषि विभाग बिझड़ी द्वारा ग्राम पंचायत दंदबी  के सरयाणा गांव में मुद्रा स्वास्थ्य कार्ड योजना के अधीन एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: