Wednesday, May 19, 2021
Home Slider विपक्ष का राष्ट्रीय चेहरा बनने की ममता बनर्जी की राह नहीं आसान

विपक्ष का राष्ट्रीय चेहरा बनने की ममता बनर्जी की राह नहीं आसान

उज्जवल हिमाचल। नई दिल्ली

पश्चिम बंगाल में भाजपा की सबसे शीर्ष पराक्रमी चुनावी जोड़ी को बड़े अंतर से मात देकर ममता बनर्जी बेशक विपक्ष की एक प्रभावशाली और ताकतवर नेता के रूप में उभर कर सामने आई हैं, मगर राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी नेतृत्व की कमान थामने की उनकी राह आसान नहीं है। लगातार चुनावी नाकामियों के बीच राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा को रोकने के लिए विपक्षी गोलबंदी की पैरोकारी करती रही। कांग्रेस खुद दीदी की दिल्ली की राह रोकने में कसर नहीं छोड़ेगी। वहीं, कुछ बड़े क्षेत्रीय छत्रपों की ममता के नेतृत्व की रहनुमाई को सहजता से स्वीकार करने की हिचक भी इसमें अड़चन बनेगी।

बंगाल चुनाव में भाजपा के 200 सीटों के साथ जीत के दावे की जैसे ही हवा निकली वैसे ही उत्साह में कुछ छोटे क्षेत्रीय दलों के नेताओं से लेकर विशेषज्ञों ने ममता बनर्जी को 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए विपक्ष का चुनावी चेहरा बनाए जाने की भविष्यवाणी शुरू कर दी, लेकिन चुनाव नतीजों के उत्साह में शुरू हुई ऐसी भविष्यवाणियों से इतर राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी विकल्प और उसका एक सर्वमान्य चेहरा बनने का सियासी समीकरण इतना भी सहज नहीं है। इसमें सबसे बड़ी अड़चन तो कांग्रेस की ओर से ही लगाएगी, जाएगी क्योंकि ममता बनर्जी विपक्षी दलों को एकजुट करने के लिए आगे बढ़ती हैं, तो यह कांग्रेस के नेतृत्व के लिए सीधी चुनौती होगी।

कांग्रेस विपक्षी नेतृत्व की कमान किसी सूरत में अपने हाथ से निकलने नहीं देना चाहेगी। क्योंकि ऐसा हुआ तो पार्टी की सियासी जमीन और दरक जाएगी। राज्यों में लगातार हो रही हार के बावजूद कांग्रेस का राष्ट्रीय स्तर पर बचा स्वरूप और संगठनात्मक ढांचा ही उसकी सियासी प्रासंगिकता को बचाए हुए है। जाहिर है, जब विपक्षी नेतृत्व की कमान जब कांग्रेस के हाथ से निकल जाएगी, तब पार्टी के लिए अपनी बची खुची राजनीतिक जमीन बचाना भी मुश्किल होगा। कांग्रेस इस हकीकत से वाकिफ है और इसलिए राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी सियासत में दीदी की पूरी भूमिका की तरफदारी करने के बावजूद पार्टी यही प्रयास करेगी कि विपक्षी राजनीति की कमान किसी क्षेत्रीय दल के नेता के हाथ में न चली जाए।

ममता बनर्जी के राकांपा प्रमुख शरद पवार से बेहतर रिश्तों को देखते हुए इस बात की चर्चाएं भी शुरू हो गई हैं कि ये दोनों कुछ और बड़े क्षेत्रीय दलों के नेताओं के साथ मिलकर राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी राजनीति की कमान गैर कांग्रेसी दलों के हाथ में सौंपने का कांग्रेस नेतृत्व पर दबाव बना सकते हैं, लेकिन राज्यों में क्षेत्रीय दलों की अपनी राजनीतिक सीमाएं और जरूरतों को देखते हुए यह इतना भी आसान नजर नहीं आता।

हालांकि इसमें संदेह नहीं कि राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी नेतृत्व की कमान मिले चाहे न मिले मगर ममता बनर्जी पूरे विपक्ष को एकजुट करने की अपने प्रयासों को कई गुना तेज करेंगी। दीदी को बंगाल चुनाव के दौरान भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ केंद्रीय एजेंसियों के आक्रामक हमलों का जिस तरह सामना करना पड़ा है, उसे देखते हुए वे इसमें कोई गुंजाइश छोड़ेंगी। इसकी संभावना नहीं है।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

कोर्नेल यूनिवर्सिटी अमेरिका व यूएन एजेंसियों से विजय हीर ने पूर्ण किए 100 इन्टरनेशनल कोर्स 

एसके शर्मा / हमीरपुर हमीरपुर जिला के घंगोट स्कूल में तैनात टीजीटी कला शिक्षक विजय हीर ने 100 इन्टरनेशनल कोर्सों सहित 1300 कोर्स सर्टिफिकेट 8...

कुम्भ की आड़ में कांग्रेस का हिंदू विरोधी चेहरा हुआ बेनकाव : कश्यप

उज्जवल हिमाचल। शिमला भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने बताया कांग्रेस की टूलकिट लीक हुई है। इसमें हरिद्वार में लगे कुम्भ को कोरोना का ‘सुपर...

वैक्सीन लगाना बना घूमने का बहाना

शकुंतला ठाकुर। कुल्लू प्रदेश में 17 मई से 18 वर्ष से 44 वर्ष के आयु वर्ग के युवाओं के लिए कोविड टीकाकरण आरंभ हो गया...

अनाथ बच्चों की उचित देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित कर रही है प्रदेश सरकारः मुख्यमंत्री

उज्जवल हिमाचल। शिमला मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां बताया कि कोरोना महामारी से न केवल वैश्विक अर्थ-व्यवस्था प्रभावित हुई है, बल्कि बहुत से...

Related News

कोर्नेल यूनिवर्सिटी अमेरिका व यूएन एजेंसियों से विजय हीर ने पूर्ण किए 100 इन्टरनेशनल कोर्स 

एसके शर्मा / हमीरपुर हमीरपुर जिला के घंगोट स्कूल में तैनात टीजीटी कला शिक्षक विजय हीर ने 100 इन्टरनेशनल कोर्सों सहित 1300 कोर्स सर्टिफिकेट 8...

कुम्भ की आड़ में कांग्रेस का हिंदू विरोधी चेहरा हुआ बेनकाव : कश्यप

उज्जवल हिमाचल। शिमला भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने बताया कांग्रेस की टूलकिट लीक हुई है। इसमें हरिद्वार में लगे कुम्भ को कोरोना का ‘सुपर...

वैक्सीन लगाना बना घूमने का बहाना

शकुंतला ठाकुर। कुल्लू प्रदेश में 17 मई से 18 वर्ष से 44 वर्ष के आयु वर्ग के युवाओं के लिए कोविड टीकाकरण आरंभ हो गया...

अनाथ बच्चों की उचित देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित कर रही है प्रदेश सरकारः मुख्यमंत्री

उज्जवल हिमाचल। शिमला मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां बताया कि कोरोना महामारी से न केवल वैश्विक अर्थ-व्यवस्था प्रभावित हुई है, बल्कि बहुत से...

प्रदेश सरकार मौजूदा संस्थानों में बिस्तरों की क्षमता में वृद्धि करेगीः मुख्यमंत्री

उज्जवल हिमाचल। शिमला मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां बताया कि प्रदेश सरकार ने राज्य में कोविड-19 के मामलों में हो रही तीव्र वृद्धि...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: