Saturday, June 12, 2021
Home Himachal सौभाग्य का व्रत है वट सावित्री

सौभाग्य का व्रत है वट सावित्री

उज्जवल हिमाचल। डेस्क
हिंदी पंचांग के अनुसार, वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को किया जाता है। इस दिन विवाहित औरतें वट वृक्ष की पूजा करती हैं। इस पूजा का मुख्य उद्देश्य अपने पति की लंबी उम्र की कामना करना और अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाना होता है। वट सावित्री व्रत सौभाग्य प्राप्ति के लिए एक बड़ा व्रत माना जाता है। इस साल वट सावित्री व्रत आज 10 जून दिन गुरुवार को पूरी विधि-विधान से रखा जाएगा। इस दिन पूजा के दौरान वट सावित्री व्रत की कथा का श्रवण किया जाता है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

वट सावित्री व्रत कथा
प्रसिद्ध तत्त्‍‌वज्ञानी अश्वपति भद्र देश के राजा थे। उनको संतान सुख नहीं प्राप्त था। इसके लिए उन्होंने 18 वर्ष तक कठोर तपस्या की, जिसके उपरांत सावित्री देवी ने कन्या प्राप्ति का वरदान दिया। इस वजह से जन्म लेने के बाद कन्या का नाम सावित्री रखा गया। कन्या बड़ी होकर बहुत ही रूपवान हुई। योग्य वर न मिलने की वजह से राजा दुखी रहते थे। राजा ने कन्या को खुद वर खोजने के लिए भेजा। जंगल में उसकी मुलाकात सत्यवान से हुई। द्युमत्सेन के पुत्र सत्यवान को पतिरूप में स्वीकार कर लिया।

इस घटना की जानकारी के बाद ऋषि नारद जी ने अश्वपति से सत्यवान् की अल्पआयु के बारे में बताया। माता-पिता ने बहुत समझाया, परन्तु सावित्री अपने धर्म से नहीं डिगी। जिनके जिद्द के आगे राजा को झुकना पड़ा।

सावित्री और सत्यवान का विवाह हो गया। सत्यवान बड़े गुणवान, धर्मात्मा और बलवान थे। वे अपने माता-पिता का पूरा ख्याल रखते थे। सावित्री राजमहल छोड़कर जंगल की कुटिया में आ गई थीं, उन्होंने वस्त्राभूषणों का त्यागकर अपने अन्धे सास-ससुर की सेवा करती रहती थी।

सत्यवान् की मृत्यु का दिन निकट आ गया। नारद ने सावित्री को पहले ही सत्यवान की मृत्यु के दिन के बारे में बता दिया था। समय नजदीक आने से सावित्री अधीर होने लगीं। उन्होंने तीन दिन पहले से ही उपवास शुरू कर दिया। नारद मुनि के कहने पर पितरों का पूजन किया।

प्रत्येक दिन की तरह सत्यवान भोजन बनाने के लिए जंगल में लकड़ियां काटने जाने लगे, तो सावित्री उनके साथ गईं। वह सत्यवान के महाप्रयाण का दिन था। सत्यवान लकड़ी काटने पेड़ पर चढ़े, लेकिन सिर चकराने की वजह से नीचे उतर आये। सावित्री पति का सिर अपनी गोद में रखकर उन्हें सहलाने लगीं। तभी यमराज आते दिखे जो सत्यवान के प्राण लेकर जाने लगे। सावित्री भी यमराज के पीछे-पीछे जाने लगीं।

उन्होंने बहुत मना किया परंतु सावित्री ने कहा, जहां मेरे पतिदेव जाते हैं, वहां मुझे जाना ही चाहिये। बार-बार मना करने के बाद भी सावित्री पीछे-पीछे चलती रहीं। सावित्री की निष्ठा और पतिपरायणता को देखकर यम ने एक-एक करके वरदान में सावित्री के अन्धे सास-ससुर को आंखें दीं, उनका खोया हुआ राज्य दिया और सावित्री को लौटने के लिए कहा। वह लौटती कैसे? सावित्री के प्राण तो यमराज लिये जा रहे थे।

यमराज ने फिर कहा कि सत्यवान् को छोडकर चाहे जो मांगना चाहे मांग सकती हो, इस पर सावित्री ने 100 संतानों और सौभाग्यवती का वरदान मांगा। यम ने बिना विचारे प्रसन्न होकर तथास्तु बोल दिया। वचनबद्ध यमराज आगे बढ़ने लगे। सावित्री ने कहा कि प्रभु मैं एक पतिव्रता पत्नी हूं और आपने मुझे पुत्रवती होने का आशीर्वाद दिया है। यह सुनकर यमराज को सत्यवान के प्राण छोड़ने पड़े। सावित्री उसी वट वृक्ष के पास आ गईं, जहां उसके पति का मृत शरीर पड़ा था।

सत्यवान जीवित हो गए, माता-पिता को दिव्य ज्योति प्राप्त हो गई और उनका राज्य भी वापस मिल गया। इस प्रकार सावित्री-सत्यवान चिरकाल तक राज्य सुख भोगते रहे। अतः पतिव्रता सावित्री की तरह ही अपने सास-ससुर का उचित पूजन करने के साथ ही अन्य विधियों को प्रारंभ करें। वट सावित्री व्रत करने और इस कथा को सुनने से व्रत रखने वाले के वैवाहिक जीवन के सभी संकट टल जाते हैं।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बत्रा कॉलेज में मनाया विश्व बाल श्रम निषेध दिवस

उज्जवल हिमाचल। पालमपुर शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा राजकीय महाविद्यालय पालमपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना संस्था ने विश्व बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर एक...

जिला में बरामद अफीम की बड़ी खेप, तीन गिरफ्तार

सुरेंद्र सिंह सोनी। बद्दी जिला पुलिस बद्दी एसआईयू टीम ने शनिवार को सब इंस्पेक्टर निर्मल दास की अगुवाई में एक टीम का गठन किया टीम...

भारी बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारी

उज्जवल हिमाचल। नई दिल्‍ली उत्‍तर भारत में जल्द मानसूनी बारिश के कारण भीषण गर्मी से राहत मिलने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण...

पुलिस थाना पहुंचा जमीनी विवाद

एसके शर्मा। हमीरपुर उपमंडल बड़सर के अंतर्गत भैल पंचायत की रेखा देवी पत्नी जगदीश सिंह निवासी भेल ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में...

Related News

बत्रा कॉलेज में मनाया विश्व बाल श्रम निषेध दिवस

उज्जवल हिमाचल। पालमपुर शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा राजकीय महाविद्यालय पालमपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना संस्था ने विश्व बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर एक...

जिला में बरामद अफीम की बड़ी खेप, तीन गिरफ्तार

सुरेंद्र सिंह सोनी। बद्दी जिला पुलिस बद्दी एसआईयू टीम ने शनिवार को सब इंस्पेक्टर निर्मल दास की अगुवाई में एक टीम का गठन किया टीम...

भारी बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारी

उज्जवल हिमाचल। नई दिल्‍ली उत्‍तर भारत में जल्द मानसूनी बारिश के कारण भीषण गर्मी से राहत मिलने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण...

पुलिस थाना पहुंचा जमीनी विवाद

एसके शर्मा। हमीरपुर उपमंडल बड़सर के अंतर्गत भैल पंचायत की रेखा देवी पत्नी जगदीश सिंह निवासी भेल ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में...

कांग्रेस के युवा चेहरों पर भाजपा की नजर

उज्जवल हिमाचल। डेस्क राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा देशभर में एक उदाहरण के तौर पर सामने रखने की दिशा में काम कर रही है।...

Please share your thoughts...

%d bloggers like this: