जब बैठे ट्रक ड्राईवर हड़ताल पर…! तो प्रदेश के कई जिलों में हांफे पेट्रोल पंप

उज्ज्वल हिमाचल। ऊना

हिट एंड रन मामले में केंद्र सरकार ने हाल ही में कानूनी संशोधन किया है। इस संशोधन के विरोध में ट्रक चालकों ने हड़ताल कर दी है। हड़ताल का असर अब साफ तौर पर दिखने लगा है। अनिश्चितकालीन हड़ताल के कारण लोग अपने-अपने वाहनों में जरूरत से ज्यादा ईंधन भरवाने के चक्कर में नजर आए, जबकि कई पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल पूरी से खत्म हो चुका है। एक तरफ जहां पेट्रोल के लिए ग्राहकों में मारामारी रही। वहीं, दूसरी तरफ, पेट्रोल पंपों के संचालकों ने भी हाथ खड़े कर दिए।

दरअसल, पंजाब से सटे ऊना जिला के पेट्रोल पंपों पर ट्रक चालकों की हड़ताल का असर साफ तौर पर नजर आने लगा है। हालत यह है कि कई पंप हाउस खाली पड़ चुके हैं, जबकि जिन पंप हाउस में थोड़ा बहुत पेट्रोल और डीजल उपलब्ध है। वहां पर ग्राहकों में ईंधन भरवाने के लिए मारामारी मची हुई है। पेट्रोल पंपों पर जहाँ दोपहिया वाहनों में मात्र 100 रुपये चार पहिया वाहनों में 500 रुपये तक का ही तेल डाला जा रहा है.।

पेट्रोल पंप पर ईंधन भरवाने के लिए पहुंचे ग्राहकों का कहना है कि नियमित रूप से नौकरी पेशा और कारोबार के कारण उन्हें अपने वाहनों में पर्याप्त मात्रा में पेट्रोल या डीजल चाहिए होता है, लेकिन इस वक्त लगभग हर पंप पर तेल की कमी बड़ी समस्या बनती जा रही है। यहां तक की कई जगह पंप ऑपरेटर इस मौके का फायदा उठाकर साधारण की बजाय पावर और माइलेज वाला ईंधन जबरन बेचने की कोशिश भी कर रहे हैं। नववर्ष पर हिमाचल पहुंचे कई पर्यटकों को भी तेल की कमी की समस्या के चलते परेशान होना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ेेंः अब खाद्य पदार्थों के सैंपल फेल होने पर लगेगा लाखों का जुर्माना

पेट्रोल पंप संचालकों का कहना है कि ड्राइवरों की हड़ताल के कारण तेल की सप्लाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। यही कारण है कि उन्हें कई ग्राहकों को अपने यहां से बैरंग लौटने को मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को इस मामले में पहल करते हुए ट्रक चालकों के साथ वार्ता करनी चाहिए और इस हड़ताल का जल्द हाल निकालकर तमाम व्यवस्थाओं को सुचारू करना चाहिए।

ब्यूरो रिपोर्ट ऊना

हिमाचल प्रदेश की ताजातरीन खबरें देखने के लिए उज्जवल हिमाचल के फेसबुक पेज को फॉलो करें