स्मार्ट विधुत मीटर के टेंडर बोर्ड प्रबंधन करें रद्द

उज्ज्वल हिमाचल। नूरपुर

हिमाचल प्रदेश विद्युत बोर्ड पेंशनर फोर्म इंदौरा यूनिट की बैठक यूनिट के प्रधान जोगिंदर सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को इंदौरा में संपन्न हुई। इस अवसर पर रिटायर अंडर सेक्रेटरी बालकिशन चौधरी ने बताया कि स्मार्ट मीटर के जो टेंडर बोर्ड प्रबंधन वर्ग ने किया है, उसे तुरंत प्रभाव से रद्द किया जाए। विद्युत बोर्ड पहले ही आर्थिक वदहाली से जूझ रहा है स्मार्ट मीटरिंग की अनावश्यक खरीद से बोर्ड की आर्थिक हालात और बदतर होगी ।एक स्मार्ट मीटर की कीमत करीब 10 हजार रुपए है और सरकार उपभोक्ताओं को फ्री की बिजली दे रही है ऐसे में स्मार्ट मीटर खरीदने के लिए पैसा कहां से वसूला जाएगा।

इसकी भरपाई या तो कंज्यूमर से की जाएगी अन्यथा बोर्ड के खाते से इस पैसे की भरपाई होगी जिससे बोर्ड की आर्थिक हालात और खराब होगी। इसलिए इस टैंडर को तुरंत प्रभाव से निरस्त करने की मांग पैंशनर फोर्म माननीय मुख्यमंत्री से करता है। फोर्म के वरिष्ठ पदाधिकारीयो रिटायर सहायक अभियंता कृष्ण धीमान , चैन सिंह पठानिया और उपाध्यक्ष दर्शन सिंह ठाकुर ने संयुक्त बयान में कहा कि रिटायर हुए विद्युत कर्मचारियों को संशोधित वेतनमानों के बकाया राशि का भुगतान नहीं किया गया और मार्च 2023 के बाद रिटायर हुए कर्मचारियों को न तो अभी तक लीव-इन कैशमैनट की अदायगी की गई है और ना ही एरियर की प्रथम किस्त के 50 हजार रुपए की अदायगी की गई है जिससे पैंशनरर्ज में भारी नाराजगी है।

 

इन कर्मचारियों का क्या कसूर है इन्होंने कौन सा गुनाह किया है प्रबंधक वर्क बताएं। 01/01/2016 के वाद सेवानिवृत्त पैंशनरर्ज को जनवरी 2016 के नए वेतनमान अनुसार देय रिवाइज्ड ग्रेच्युटी, रिवाइज्ड लीव इन्कैशमेंट तथा रिवाइज्ड कम्यूटड पैंशन इत्यादि की अदायगी भी अभी तक नहीं की गई है जिससे पैंशनरर्ज में भारी रोष है। पैंशनरर्ज फोर्म बोर्ड प्रबंधक से पुरजोर मांग करती है की इन सेवानिवृत्त कर्मचारियों के पैंडिग सभी तरह के बेनिफिट शीघ्र अति शीघ्र रिलीज किए जाएं।

संवाददाताः विनय महाजन

हिमाचल प्रदेश की ताजातरीन खबरें देखने के लिए उज्जवल हिमाचल के फेसबुक पेज को फॉलो करें

Please share your thoughts...